स्कूल व्याख्याता की सोशल मीडिया पर भडक़ाऊ टिप्पणियां, अब निलंबन की तैयारी

जिले में एक व्याख्याता की ओर से सोशल मीडिया पर भडक़ाऊ टिप्पणियों से आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन सामने आया है। पार्टी विशेष का हित साधने वाली पोस्ट और सामाजिक सौहाद्र्र बिगाडऩे के प्रयासों की पुष्टि पर नरवाली के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के व्याख्याता भारत दोसी पर अब निर्वाचन आयोग और शिक्षा विभाग की गाज गिरने की तैयारी है। नवंबर के तीसरे सप्ताह से फेसबुक पर शुरू हुई दोसी की गतिविधियों को लेकर एक युवक ने आयोग में शिकायत की थी। इसकी जांच से मालूम हुआ कि व्याख्याता ने स्कूल समय में बिना अनुमति लिए मुख्यालय छोड़ते हुए राजनीतिक व्यक्तियों से मुलाकातें कीं और आचार संहिता लागू होने के बाद अधिकांश टिप्पणियां ऐसी पोस्ट की, जो राज्य कर्मचारी की सीमाओं का भी उल्लंघन करने वाली थी।

 

इसे लेकर रिटर्निंग अधिकारी घाटोल ने व्याख्याता दोसी को बुलवाया तो उन्होंने खुद माफीनामा लिखकर अपनी स्वीकारोक्ति भी दे दी। ऐसे में तीन सदस्यीय जांच दल ने मौजूदा साक्ष्यों के आधार पर व्याख्याता को आदतन अमर्यादित टिप्पणियां करने और राज्य सेवा आचरण अधिनियम का उल्लंघन करने का दोषी पाया। साथ ही दोसी के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की सिफारिश कर आवश्यक अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी को लिखा है। जांच दल में जिला निर्वाचन आदर्श आचार संहिता प्रकोष्ठ से तीन सदस्य में मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी एंजलिका पलात, उप वन संरक्षक सुगनाराम जाट और उपखंड अधिकारी दिनेश मंडोवरा शामिल थे।

Reference

Leave a comment

Post Author: harshit_tailor